भारतीय स्टेट बैंक ने सभी अवधियों में एमसीएलआर को 15 आधार अंकों से ऊपर की ओर संशोधित किया SBI Loan महंगा: स्टेट बैंक के ग्राहकों को झटका! बैंक ने बढ़ाया एमसीएलआर

महंगा हुआ एसबीआई का कर्ज विभिन्न कार्यकाल के देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी है और अब उनकी लोन ईएमआई में और इजाफा होने जा रहा है। दरअसल, एसबीआई ने कर्ज के आधार पर फंड की मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट्स (MCLR) में 0.15 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है. इससे अधिकांश उपभोक्ता ऋण महंगे हो जाएंगे क्योंकि गृह ऋण, कार ऋण और व्यक्तिगत ऋण जैसे ऋण MCLR से जुड़े होते हैं।

SBI ने कितना बढ़ाया MCLR?

SBI ने एक साल की MCLR को 0.10 फीसदी बढ़ाकर 8.05 फीसदी कर दिया है. अभी तक यह 7.95 फीसदी था। होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन की दरें एक साल के एमसीएलआर के आधार पर तय होती हैं। नई दरें 15 नवंबर 2022 यानी आज से लागू हो गई हैं।

एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर इसकी जानकारी दी है

उत्तर

एसबीआई की वेबसाइट पर पोस्ट की गई एक अधिसूचना के अनुसार, दो साल और तीन साल के एमसीएलआर को भी क्रमशः 0.10 प्रतिशत बढ़ाकर 8.25 प्रतिशत और 8.35 प्रतिशत कर दिया गया है।

इन कर्जों पर एमसीएलआर में 0.15 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने एक महीने और तीन महीने की MCLR को 0.15 फीसदी बढ़ाकर 7.75 फीसदी कर दिया है. छह महीने की एमसीएलआर को भी 0.15 फीसदी बढ़ाकर 8.05 फीसदी कर दिया गया है। इसके अलावा एक दिन की एमसीएलआर को 0.10 फीसदी बढ़ाकर 7.60 फीसदी कर दिया गया है.

हाल ही में एसबीआई के तिमाही नतीजे शानदार रहे हैं

भारतीय स्टेट बैंक ने हाल ही में अपने दूसरी तिमाही के नतीजे जारी किए। SBI ने अपना अब तक का सबसे अधिक तिमाही लाभ 74 प्रतिशत दर्ज किया। SBI ने दूसरी तिमाही (SBI Q2 Results) में बंपर मुनाफा कमाया है। चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में एसबीआई ने स्टैंडअलोन आधार पर 13,265 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है। यह पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 74 फीसदी अधिक है।

अब SBI की लोन EMI होगी महंगी

अब आपको स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की लोन ईएमआई के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे। दरअसल एमसीएलआर भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विकसित एक तंत्र है, जिसके आधार पर ज्यादातर बैंक कर्ज के लिए ब्याज दर तय करने में सक्षम होते हैं। इस सिस्टम को कुछ समय पहले सभी बैंकों ने अपनाया है और पहले सभी बैंक बेस रेट के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दरें तय करते थे.

Author: Rohit Vishwakarma

With over 1 years of experience in the field of journalism, Rohit Vishwakarma heads the editorial operations of the Elite News as the Executive Writer.

Leave a Reply

Your email address will not be published.